जो शक्ति न होते हुए भी मन से हार नहीं मानता है,उसको दुनिया की कोई ताकत परास्‍त नहीं कर सकती। - आचार्य चाणक्‍य



default